क्या है वीडियो एडिटिंग और मोशन ग्राफिक्स- What is Video Editing and Graphics Motion in Hindi

What is Video Editing and Graphics Motion in Hindi: बदलते समय के दौर में चीजों को देखने के हमारे अनुभव लगातार बदल रहे हैं। एक समय था जब दीवारों पर स्लोगन लिखकर विज्ञापन किया जाता था, उसके बाद प्रिंट का जमाना आया और अब डिजिटल युग में ग्राफिक्स और वीडियो संचार के माध्यम हैं। इन परिवर्तनों ने जहां हमें आधुनिक बनाया है, वहीं रोजगार के अवसर भी बढ़े हैं। आज कई कंपनियों में वीडियो एडिटिंग और मोशन ग्राफिक्स डिजाइनिंग में नौकरियां निकल रही हैं, बस जरूरत है तो एक अच्छे क्रिएटर की जो अपनी स्किल्स के बल पर बेहतरीन क्रिएटिविटी दिखा सके।

वीडियो एडिटिंग क्या है? ( What is Video Editing )

अगर हम आसान शब्दों में कहें तो पहले से रिकॉर्ड की गई कई वीडियो क्लिप को एडिट करके उन्हें बेहतर बनाने के लिए एड करना वीडियो एडिटिंग कहलाता है। दूसरे शब्दों में, वीडियो एडिटिंग रिकॉर्ड किए गए वीडियो की ट्रिमिंग और ट्रिमिंग है। विज्ञापनों, फिल्मों, वेब सीरीज और सीरियल में हम जितने भी वीडियो देखते हैं, वे क्लिप में ही होते हैं, क्योंकि पूरी कहानी एक शॉट में नहीं बल्कि कई क्लिप में शूट की जाती है। जिसे बाद में जोड़कर उनमें इफेक्ट जोड़कर बेहतर बनाया जाता है। वीडियो एडिटिंग एक कला है, जिसमें वीडियो एडिटर सॉफ्टवेयर या ऐप के जरिए वीडियो को एडिट करके उसे आकर्षक लुक देने का काम करता है। वर्तमान समय में वीडियो एडिटर की काफी डिमांड है।

वीडियो एडिटर कैसे बने? How to become Video Editor

वीडियो एडिटर बनने के लिए आपको टूल्स की जानकारी होना बहुत जरूरी है। आपको अलग-अलग सॉफ्टवेयर, ऐप्स आदि के बारे में पता होना चाहिए ताकि आप उनका सही इस्तेमाल कर सकें और बेहतर वीडियो एडिटिंग कर सकें। आज ऐसे कई टूल हैं, जिन्हें सीखकर एक सामान्य व्यक्ति भी एक बेहतर वीडियो एडिटर बन सकता है।

मोशन ग्राफिक्स क्या है? What is Graphics Motion

मोशन ग्राफिक्स एक ऐसी तकनीक है जिसमें फोटो, टेक्स्ट और साउंड की मदद से क्रिएटिव वीडियो बनाया जाता है। इसके साथ ही स्टैटिक ग्राफिक्स में अलग-अलग फ्रेम लगाकर ग्राफिक्स को गति में सेट किया जाता है, यानी उन्हें डायनामिक बनाया जाता है।

कौन कर सकता है कोर्स?

जो वीडियो एडिटिंग का कोर्स कर सकता है। सामान्य तौर पर कौशल से संबंधित पाठ्यक्रमों के कारण योग्यता का कोई निर्धारण नहीं होता है। लेकिन फिर भी व्यक्ति को कंप्यूटर चलाना आना चाहिए। इसके साथ ही सामान्य अंग्रेजी का ज्ञान होना भी जरूरी है ताकि वह सॉफ्टवेयर, और ऐप्स को आसानी से इस्तेमाल कर सके।

वीडियो एडिटिंग और मोशन ग्राफिक्स में करियर के क्या विकल्प हैं?

वीडियो एडिटिंग में करियर

हम सभी जानते हैं कि आज का युग डिजिटल युग की ओर बढ़ रहा है। हम दिन-ब-दिन डिजिटल होते जा रहे हैं और इस डिजिटल दुनिया में वीडियो का महत्व बहुत बढ़ गया है। अब लोग चीजों को सिर्फ पढ़ने और सुनने के बजाय वीडियो के रूप में देखना चाहते हैं। ऐसे में डिजिटल मार्केटिंग, मीडिया ग्रुप्स, विज्ञापन एजेंसियों, प्रोडक्शन हाउस आदि में वीडियो एडिटर्स और मोशन ग्राफिक्स डिजाइनरों की मांग बढ़ रही है। वीडियो एडिटर के कार्य भी अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग होते हैं, आइए उनके बारे में विस्तार से जानते हैं।

Film Editor

फिल्म एडिटिंग करियर में वीडियो एडिटर का काम फिल्मों को एडिट करना होता है। इसमें संपादक लंबे वीडियो को संपादित कर उन्हें छोटा और अर्थपूर्ण रूप देता है। यह काम लंबी अवधि का है। संपादक को कई दिन लग जाते हैं। वीडियो एडिटर के करियर में इसे सबसे बड़े करियर के तौर पर देखा जाता है। हम जो फिल्में देखते हैं उन्हें एडिट करने का काम फिल्म एडिटर करता है।

Documentary Video Editor

डॉक्यूमेंट्री वीडियो एडिटिंग करियर में वीडियो एडिटर 10 से 15 मिनट के डॉक्यूमेंट्री को एडिट करने का काम करता है। जिसमें वह अलग-अलग क्लिप जोड़कर वीडियो बनाता है। यूट्यूब आदि पर देखे गए वृत्तचित्र उसी के उदाहरण हैं।

Ad Video Editor

इसमें वीडियो एडिटर द्वारा 10 सेकंड से 2 मिनट का इंटरएक्टिव वीडियो बनाया जाता है। जिसमें वह संबंधित विज्ञापन वस्तु को आकर्षक ढंग से प्रस्तुत करने का कार्य करता है।

News video editor

न्यूज वीडियो एडिटर का काम न्यूज बुलेटिन तैयार करना, प्रोग्राम बनाना, स्पेशल स्टोरीज तैयार करना आदि होता है। वह एंकर और वीओ के आधार पर विजुअल सेट करने जैसे महत्वपूर्ण काम करता है।

इसी तरह मोशन ग्राफिक्स डिजाइनर की भी भूमिका होती है। वह अपने स्तर पर इस तरह के वीडियो तैयार करता है। जिसमें उनके पास रॉ फुटेज नहीं है। कार्टून फिल्में, एनिमेटेड वीडियो और एनिमेटेड विज्ञापन इसके उदाहरण हैं।

वीडियो एडिटर और मोशन ग्राफिक्स डिजाइनर को कितनी सैलरी मिलती है?

वीडियो एडिटिंग और मोशन ग्राफिक्स क्रिएटिविटी से जुड़े करियर हैं। ऐसे में आम करियर की तुलना में ज्यादा कमाई की संभावना ज्यादा रहती है। आज के समय में एक साल के अनुभव वाले क्रिएटर को भी 4 से 5 लाख रुपए का सालाना पैकेज आसानी से मिल सकता है। इसके अलावा इन स्किल्स में कोर्स करने के बाद आप फ्रीलांसर के तौर पर भी करियर की शुरुआत कर सकते हैं।

इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा कि वीडियो एडिटिंग और मोशन ग्राफिक्स आज के समय की मांग है और इन क्षेत्रों में रोजगार के अवसर भी काफी बढ़ गए हैं। अगर आपने बनाया है और आप वीडियो एडिटिंग और मोशन ग्राफिक्स में करियर देखते हैं तो यह एक बहुत अच्छा विकल्प हो सकता है।

Leave a Comment