स्टॉक मार्केट क्या है और इससे पैसे कैसे कमाए? What is Stock Market in Hindi

What is Stock Market in Hindi: क्या आप जानते हैं स्टॉक मार्केट क्या है (What is Stock Market in Hindi)? आपने अक्सर लोगों को इसके बारे में बात करते देखा होगा। और अक्सर आपने इंटरनेट पर इससे संबंधित कई पोस्ट देखी होंगी, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज्यादातर पोस्ट आपको इस चीज के बारे में सही जानकारी नहीं देती हैं, बल्कि वहां मौजूद आधी अधूरी जानकारी से भ्रमित कर देती हैं।

बहुत से लोग शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, लेकिन शेयर बाजार के बारे में सही जानकारी न होने के कारण या तो वे शेयर बाजार में निवेश करने से बचते हैं और शेयर बाजार में निवेश नहीं करते हैं या शेयर बाजार में निवेश करके अपना पैसा खो देते हैं। . शेयर बाजार या शेयर बाजार के कई नाम हैं और इसे अलग-अलग लोग अलग-अलग नामों से जानते हैं। “Share” जो कि एक अंग्रेजी भाषा का शब्द है। इसका सबसे सरल और सहज अर्थ “हिस्सा” है। और शेयर बाजार, जो है, “शेयर” के सिद्धांत पर काम करता है।

बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) को भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज माना जाता है। इसकी स्थापना 1875 में भारत के पहले स्टॉक एक्सचेंज के रूप में हुई थी। भारत का दूसरा स्टॉक एक्सचेंज एनएसई (भारत का राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज) है। इसकी स्थापना 1992 में भारत के पहले डिम्यूचुअलाइज्ड इलेक्ट्रॉनिक स्टॉक एक्सचेंज के रूप में हुई थी।

तो आइए जानते हैं आखिर क्या है ये शेयर बाजार? और यह कैसे काम करता है। तो आज की इस पोस्ट में शेयर बाजार से जुड़ी सभी जानकारी देने की कोशिश की जाएगी ताकि आप ज्यादा नुकसान उठाने से बच सकें और शेयर बाजार के बारे में अच्छी जानकारी भी प्राप्त कर सकें। तो फिर बिना देर किये चलिए शुरू करते हैं और स्टॉक मार्केट के बारे में हिंदी में पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं.

स्टॉक मार्केट क्या है

जैसा कि हम जानते हैं कि स्टॉक मार्केट या स्टॉक मार्केट को लोग अलग-अलग नामों से जानते हैं और मैंने पहले ही बताया है कि शेयर का सीधा अर्थ शेयर बाजार में “शेयर” होता है, किसी कंपनी में शेयर को शेयर कहा जा सकता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि किसी कंपनी ने एक लाख शेयर जारी किए हैं। अब यदि कोई व्यक्ति उस कंपनी में जितने शेयर खरीदता है, वह उस कंपनी में उतने ही शेयर का मालिक बन जाता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति किसी कंपनी में 1 लाख में से 40,000 शेयर खरीदता है, तो उस कंपनी में उसका शेयर 40% हो जाएगा। और वह उस 40% हिस्से का मालिक बन जाएगा।

स्टॉक किसी भी कंपनी में किसी व्यक्ति की हिस्सेदारी को दर्शाता है। और वह व्यक्ति जब चाहे अपने शेयर दूसरों को बेच सकता है या अन्य लोगों के शेयर खरीद सकता है।

कंपनियों के शेयरों या शेयरों की वैल्यू बीएसई में दर्ज की जाती है। सभी कंपनियों के शेयरों का मूल्य कंपनी की लाभदायक क्षमता के अनुसार बढ़ता या घटता रहता है। पूरे बाजार पर नियंत्रण बनाए रखने का काम भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) करता है।

जब सेबी किसी कंपनी को अनुमति देता है तभी कोई कंपनी अपना इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग जारी कर सकती है बिना सेबी की अनुमति के कोई भी कंपनी आईपीओ जारी नहीं कर सकती है।

कंपनी स्टॉक मार्केट में कब आती है?

शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने या प्रकट होने के लिए कंपनी को एक्सचेंज के साथ लिखित में कई समझौते करने होते हैं, उस समझौते के तहत कंपनी को अपनी हर गतिविधि की जानकारी बाजार को समय-समय पर देनी होती है, इन सूचनाओं में ऐसी जानकारी इसलिए भी होती है ताकि निवेशकों के हितों पर इसका असर पड़े।

कंपनी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर ही कंपनी का मूल्यांकन किया जाता है और इसी मूल्यांकन के आधार पर उस कंपनी के शेयरों की कीमतों में मांग घटने या बढ़ने के कारण उतार-चढ़ाव होता रहता है। यदि कोई कंपनी लिस्टिंग एग्रीमेंट के नियमों का पालन नहीं करती है और नियमों का उल्लंघन करने का दोषी पाई जाती है, तो सेबी द्वारा उसे एक्सचेंज से हटाने की कार्रवाई की जाएगी।

क्या आप जानते हैं कि शेयर बाजार क्या है (What is Stock Market in Hindi)? आपने अक्सर लोगों को इसके बारे में बात करते देखा होगा। और अक्सर आपने इंटरनेट पर इससे जुड़े कई पोस्ट देखे होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज्यादातर पोस्ट आपको इस बात की सही जानकारी नहीं देते हैं? बल्कि वहां मौजूद आधी-अधूरी जानकारी से आपको भ्रमित कर देता है।

बहुत से लोग शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, लेकिन शेयर बाजार के बारे में सही जानकारी न होने के कारण या तो वे शेयर बाजार में निवेश करने से बचते हैं और शेयर बाजार में निवेश नहीं करते हैं या शेयर बाजार में निवेश करके अपना पैसा खो देते हैं। . शेयर बाजार या शेयर बाजार के कई नाम हैं, और इसे अलग-अलग लोग अलग-अलग नामों से जानते हैं। “शेयर” अंग्रेजी भाषा का शब्द है। इसका सबसे सरल और सहज अर्थ “हिस्सा” है। और शेयर बाजार, जो है, “शेयर” के सिद्धांत पर काम करता है।

बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) को भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज माना जाता है। इसकी स्थापना 1875 में भारत के पहले स्टॉक एक्सचेंज के रूप में हुई थी। भारत का दूसरा स्टॉक एक्सचेंज एनएसई (भारत का राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज) है। इसकी स्थापना 1992 में भारत के पहले डिम्यूचुअलाइज्ड इलेक्ट्रॉनिक स्टॉक एक्सचेंज के रूप में हुई थी।

तो आइए जानते हैं आखिर क्या है ये शेयर बाजार। और यह कैसे काम करता है? तो आज की इस पोस्ट में शेयर बाजार से जुड़ी सभी जानकारी देने की कोशिश की जाएगी ताकि आप ज्यादा नुकसान उठाने से बच सकें और शेयर बाजार के बारे में अच्छी जानकारी भी प्राप्त कर सकें। तो फिर बिना देर किये चलिए शुरू करते हैं और स्टॉक मार्केट के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में प्राप्त करते हैं.

स्टॉक मार्केट क्या है हिंदी में स्टॉक मार्केट क्या है

जैसा कि हम जानते हैं कि स्टॉक मार्केट या स्टॉक मार्केट को लोग अलग-अलग नामों से जानते हैं, और मैंने उन्हें पहले ही बता दिया है कि शेयर का सीधा अर्थ शेयर बाजार में “शेयर” होता है; किसी कंपनी में शेयर को शेयर कहा जा सकता है।

शेयर मार्केट क्या है हिंदी में?

उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि किसी कंपनी ने एक लाख शेयर जारी किए हैं। अब यदि कोई व्यक्ति उस कंपनी के जितने शेयर खरीदता है, वह उतने ही शेयरों का मालिक बन जाता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति किसी कंपनी में 1 लाख में से 40,000 शेयर खरीदता है, तो उस कंपनी में उसका हिस्सा 40% हो जाएगा। और वह उस 40% हिस्से का मालिक बन जाएगा।

स्टॉक किसी भी कंपनी में किसी व्यक्ति की हिस्सेदारी को दर्शाता है। और वह व्यक्ति जब चाहे अपने शेयर दूसरों को बेच सकता है या अन्य लोगों के शेयर खरीद सकता है।

कंपनियों के शेयरों या शेयरों की वैल्यू बीएसई में दर्ज की जाती है। सभी कंपनियों के शेयरों का मूल्य कंपनी की लाभदायक क्षमता के अनुसार बढ़ता या घटता रहता है। पूरे बाजार पर नियंत्रण बनाए रखने का काम भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) करता है।

जब सेबी किसी कंपनी को अनुमति देता है, तभी कोई कंपनी अपना आरंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव जारी कर सकती है; सेबी की अनुमति के बिना कोई भी कंपनी आईपीओ जारी नहीं कर सकती है।

कंपनी स्टॉक मार्केट में कब आती है?

शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने या प्रकट होने के लिए कंपनी को एक्सचेंज के साथ लिखित में कई समझौते करने होते हैं, उस समझौते के तहत कंपनी को अपनी हर गतिविधि की जानकारी बाजार को समय-समय पर देनी होती है, इन सूचनाओं में ऐसी जानकारी इसलिए भी होती है ताकि निवेशकों के हितों पर इसका असर पड़े।

कंपनी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर ही कंपनी का मूल्यांकन किया जाता है और इसी मूल्यांकन के आधार पर उस कंपनी के शेयरों की कीमतों में मांग में वृद्धि या कमी के कारण उतार-चढ़ाव होता रहता है। यदि कोई कंपनी लिस्टिंग एग्रीमेंट के नियमों का पालन नहीं करती है और नियमों का उल्लंघन करने का दोषी पाई जाती है, तो सेबी द्वारा उसे एक्सचेंज से हटाने की कार्रवाई की जाएगी।

शेयर/स्टॉक कितने प्रकार के होते हैं?

शेयर कई तरह के हो सकते हैं और अलग-अलग लोग उन्हें अलग-अलग तरीके से परिभाषित करते हैं। लेकिन हम शेयर को मुख्य रूप से 3 रूपों में बांट सकते हैं। आइए जानते हैं शेयर के प्रकार:-

1.) Common Shares – इन्हें कोई भी व्यक्ति खरीद सकता है। और जरूरत पड़ने पर पढ़कर बेच सकते हैं। यह शेयर का सबसे आम प्रकार है।

2.) बोनस शेयर – जब कोई कंपनी अच्छा मुनाफा कमाती है और वह कंपनी उसका कुछ हिस्सा अपने शेयरधारकों को देना चाहती है। बदले में वह पैसे नहीं देना चाहती और अगर वह शेयर देती है तो उसे बोनस शेयर कहते हैं।

3.) पसंदीदा शेयर – यह शेयर कंपनी द्वारा कुछ खास लोगों के लिए ही लाया जाता है। जब किसी कंपनी को पैसों की जरूरत होती है और वह बाजार से कुछ पैसा जुटाना चाहती है तो वह जो शेयर जारी करेगी उसे खरीदने का पहला अधिकार कुछ खास लोगों को ही देगी। जैसे किसी कंपनी में काम करने वाले कर्मचारी। ऐसे शेयर काफी सुरक्षित माने जाते हैं।

स्टॉक कैसे खरीदें

स्टॉक खरीदने के लिए सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि आप खुद स्टॉक खरीदना चाहेंगे या किसी ब्रोकर की मदद लेंगे। तभी कोई आगे बढ़ सकता है।

अगर आप किसी ब्रोकर की मदद लेते हैं तो सबसे पहले आपको अपना अकाउंट खोलना होगा, जिसे डीमैट अकाउंट कहते हैं, जिसे आप अपने ब्रोकर के जरिए खुलवा सकते हैं। ब्रोकर के माध्यम से स्टॉल खरीदने में बहुत फायदा होता है, पहला तो आपको अच्छा मार्गदर्शन मिलेगा और दूसरा, आपको शेयर बाजार की पूरी जानकारी मिल जाएगी। ब्रोकर आपकी मदद और स्टॉक की जानकारी आदि के लिए स्टॉक में पैसा या लाभ का हिस्सा बनाते हैं।

भारत में केवल 2 स्टॉक एक्सचेंज हैं। एनएसई और दूसरा बीएसई। शेयरों को केवल उन्हीं कंपनियों में खरीदा या बेचा जा सकता है जो उनमें सूचीबद्ध हैं।

आप जब भी कोई शेयर खरीदते और बेचते हैं तो उसका पैसा आपके डीमैट अकाउंट में ही आता है। आपका डीमैट खाता आपके बैंक खाते से जुड़ा हुआ है। आप अपने डीमैट खाते से आसानी से अपने बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग क्या है हिंदी में?

“ट्रेडिंग” शब्द बहुत लोकप्रिय है और शेयर बाजार में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। हिंदी में इस शब्द का अर्थ “व्यापार” है। जब भी हम कोई वस्तु या कोई सेवा इस इरादे से खरीदते हैं कि उस वस्तु और सेवा को कुछ समय तक रखने के बाद हम उसे बेचकर लाभ कमाएंगे। “व्यापार” कहा जा सकता है।

इसी तरह जब कोई व्यक्ति शेयर बाजार में कोई शेयर खरीदता है तो उस व्यक्ति का मुख्य उद्देश्य होता है कि उस शेयर की कीमत बढ़ने के बाद वह उस शेयर को बेचकर मुनाफा कमा सके। इस लाभ को अर्जित करने के लिए शेयरों को खरीदने और बेचने की पूरी प्रक्रिया को “ट्रेडिंग” कहा जाता है।

ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है?

वैसे देखा जाए तो ट्रेडिंग कई तरह की हो सकती है। लेकिन मुख्य रूप से सिर्फ 3 तरह की ट्रेडिंग ही लोगों द्वारा बहुत ज्यादा पसंद और इस्तेमाल की जाती है।

1) इंट्रा-डे ट्रेडिंग: ऐसे ट्रेड जो एक दिन के भीतर पूरे हो जाते हैं, इंट्रा-डे ट्रेडिंग कहलाते हैं। इंट्रा डे ट्रेडिंग में स्टॉक को एक ही दिन में खरीदने और बेचने का काम किया जाता है।

2) स्कैल्पर ट्रेडिंग: ऐसे ट्रेड जो खरीद के कुछ ही मिनटों के भीतर बिक जाते हैं, स्कैल्पर ट्रेडिंग कहलाते हैं। इसमें अक्सर 5 से 10 मिनट के अंदर शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं। इस प्रकार के स्टॉक में लाभ अधिक होता है। लेकिन इसमें मुनाफा तभी ज्यादा हो सकता है जब इसमें निवेश की गई रकम ज्यादा हो। इसमें नुकसान होने के चांस ज्यादा होते हैं क्योंकि निवेश की गई रकम भी ज्यादा होती है।

3) स्विंग ट्रेडिंग: इसमें ट्रेडिंग की प्रक्रिया कुछ दिनों, हफ्तों या महीनों में पूरी की जाती है। शेयर खरीदने के बाद निवेशक इसे कुछ समय जैसे एक हफ्ते या एक महीने के लिए अपने पास रखते हैं। उसके बाद, हम तब तक प्रतीक्षा करते हैं जब तक कि शेयरों की कीमत बढ़ न जाए और जब सही कीमत मिल जाए। तो बेच दो।

शेयर बाजार को लोग खतरनाक खेल मानते हैं। जिसमें इंसान सिर्फ डूबता है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। यह धारणा सर्वथा गलत है। शेयर बाजार में अगर सही तरीके और संयम से निवेश किया जाए तो व्यक्ति इस चीज में अच्छा खासा मुनाफा भी कमा सकता है। लेकिन इसमें कूदने से पहले व्यक्ति को इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल करना बहुत जरूरी है। अधूरी जानकारी हमेशा खतरनाक रही है।

लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि शेयर बाजार में निवेश नहीं करना चाहिए या निवेश करने की कोई अलग तरह की प्रतिभा या क्षमता होनी चाहिए। कोई भी व्यक्ति शेयर बाजार में निवेश के क्षेत्र में प्रयास करके और शेयर बाजार का ज्ञान और अपने अनुभव से इसमें निवेश कर मास्टर बन सकता है।

Leave a Comment