फ्रीलांसिंग क्या होता है ? फ्रीलांसिंग से पैसे कैसे कमाए ? What is Freelancing in Hindi

What is Freelancing in Hindi: कई लोगों को नौकरी नहीं मिल रही है. ऐसे में बहुत से लोग फ्रीलांसिंग करने के लिए लालायित रहते हैं। वे जानना चाहते हैं कि फ्रीलांसिंग क्या होता है? फ्रीलांसर कैसे बनें? तो इस पोस्ट में हम फ्रीलांसिंग के बारे में विस्तार से जानेंगे।

बेरोजगारी बहुत बढ़ रही है। सरकारी नौकरी पाने के लिए बहुत पापड़ बेलने पड़ते हैं। प्राइवेट नौकरी मिल भी जाए तो वहां जॉब सिक्यॉरिटी नहीं होती। कभी भी आपकी एक छोटी सी गलती से आपकी नौकरी जा सकती है।

इन सब बातों को देखते हुए कई लोग अपना खुद का बिजनेस करते हैं या फिर ऑनलाइन कमाई का कोई तरीका अपनाते हैं। व्यापार करने में जोखिम है और पैसा भी शामिल है। इसलिए बिजनेस करना हर किसी के बस की बात नहीं होती है।

ऑनलाइन कमाई का चलन बहुत बढ़ रहा है। बहुत से लोग केवल ऑनलाइन कमाई करके ही अपना जीवनयापन करते हैं। ऑनलाइन कमाई करने के बहुत से तरीके है जिसमे से Freelancing बहुत ही अच्छा तरीका है. तो इस ब्लॉग पोस्ट में हम जानेंगे कि फ्रीलांसिंग क्या होता है? आप एक फ्रीलांसर कैसे बन सकते हैं? और फ्रीलांसिंग के क्या फायदे हैं?

फ्रीलांसिंग क्या होता है- What is Freelancing

फ्रीलांसिंग एक अनुबंध-आधारित व्यवसाय है जहां व्यक्ति केवल एक संगठन में काम नहीं करते हैं बल्कि कई ग्राहकों को अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं। फ्रीलांसिंग करने वालों को फ्रीलांसर कहा जाता है।

फ्रीलांसर क्या है

आइए एक उदाहरण की मदद से फ्रीलांसिंग को समझने की कोशिश करते हैं। एक यूट्यूबर होता है वो अपना वीडियो बनाता है लेकिन उसके पास इतना समय नहीं होता कि वह अपने वीडियो को एडिट कर सके या फिर उसे वीडियो एडिटिंग नहीं आती। फिर उसे कोई ऐसा मिल जाएगा जो उसके वीडियो को एडिट कर सके। उसके पास पूर्णकालिक वीडियो संपादक रखने के लिए पर्याप्त बजट नहीं है या उसके पास पूर्णकालिक वीडियो संपादक नियुक्त करने के लिए पर्याप्त काम नहीं है।

वहीं दूसरी तरफ आपको वीडियो एडिटिंग मिलती है। आप दोनों किसी फ्रीलांसिंग वेबसाइट (जिसे आप इस ब्लॉग पोस्ट में आगे जानेंगे) या किसी अन्य माध्यम से संपर्क में आए। उसने आपको वीडियो एडिटिंग का प्रोजेक्ट दिया, आपने उसे दिए गए समय में पूरा किया, बदले में आपको पैसे मिले।

इस काम को फ्रीलांसिंग कहा जाता है और इस उदाहरण में आप एक फ्रीलांसर थे। आशा है कि यह उदाहरण आपको फ्रीलांसिंग क्या है इसकी बेहतर समझ देता है।

अगर आप फ्रीलांसिंग का हिंदी अर्थ जानना चाहते हैं, तो हम आपको बता दें कि फ्रीलांसिंग का हिंदी अर्थ ‘इंडिपेंडेंट’ होता है।

फ्रीलांसिंग के लिए आपके पास एक लैपटॉप या कंप्यूटर होना चाहिए, आपके काम से संबंधित आवश्यक सॉफ्टवेयर और अच्छा नेटवर्क कनेक्शन होना चाहिए।

अगर आपके पास लैपटॉप या कंप्यूटर नहीं है तो आप अपने स्मार्टफोन से भी कुछ फ्रीलांसिंग का काम कर सकते हैं। जैसे कंटेंट राइटिंग, वीडियो एडिटिंग आदि। स्मार्टफोन से फ्रीलांसिंग करना थोड़ा मुश्किल और समय लेने वाला होगा।

फ्रीलांसर कैसे बने

फ्रीलांसिंग क्या है? इसे हम ऊपर समझ चुके हैं। अब हम जानेंगे कि फ्रीलांसर कैसे बनते हैं। इसमें हम आपको तीन (3) स्टेप्स बताएंगे जिन्हें फॉलो करके आप एक अच्छा फ्रीलांसर बन सकते हैं।

1. एक अच्छा कौशल सीखें

जैसा कि हमने ऊपर ‘फ्रीलांसिंग क्या है?’ इसमें फ्रीलांसर अपने क्लाइंट्स के लिए अपनी स्किल्स से काम करते हैं। अगर आपके पास कोई हुनर है तो बहुत अच्छी बात है अगर नहीं है तो कोई ऐसा हुनर सीखिए जिसकी बाजार में डिमांड है और उसके लिए आपको अच्छा खासा पैसा मिल सकता है।

यहां हम आपको फ्रीलांसिंग के लिए कुछ टॉप स्किल्स बता रहे हैं जिनकी मार्केट में काफी डिमांड है और इसके लिए आपको काफी पैसे मिलेंगे।

शीर्ष फ्रीलांस कौशल
  • Writing
  • Tutoring
  • Translation
  • Video Editing
  • Graphic Design
  • Website Design
  • Virtual Assistant
  • Social Media Marketing
  • Mobile App Development
  • Search Engine Optimization (SEO)
2. फ्रीलांसिंग के लिए प्लेटफॉर्म चुनें

अब आप फ्रीलांसिंग का हुनर सीख चुके हैं। लेकिन सवाल आता है कि फ्रीलांसिंग का काम कहां से मिलेगा?

आपको कई तरह से काम मिल सकता है जैसे आपके किसी रिश्तेदार ने आपको कुछ काम दिया है या आप किसी भी कंपनी की वेबसाइट पर जा सकते हैं और ‘हम भर्ती कर रहे हैं’ के विकल्प पर क्लिक करके देख सकते हैं कि वे फ्रीलांसरों को काम पर रख रहे हैं और आपके पास किसके लिए है। इसमें जो स्किल चाहिए, अगर हां तो आप उससे संपर्क कर सकते हैं।

फ्रीलांसिंग जॉब खोजने का सबसे अच्छा प्लेटफॉर्म ‘फ्रीलांस वेबसाइट’ है। इन वेबसाइट्स पर आपको लगभग सभी स्किल्स से जुड़े काम मिल जाएंगे।

यहां हम आपको फ्रीलांसिंग के लिए कुछ टॉप वेबसाइट बता रहे हैं जहां आप रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं और आसानी से काम ढूंढ सकते हैं।

सर्वश्रेष्ठ फ्रीलांस वेबसाइट
  • Fiverr
  • Upwork
  • Guru
  • Freelancer
  • TaskRabbit
  • Truelancer
  • PeoplePerHour
  • Freelance India
  • Simply Hired
  • Writer Access
3. अपना पोर्टफोलियो बनाएं

फ्रीलांसिंग में आप नियोक्ता (क्लाइंट) से अनजान होते हैं और क्लाइंट आपसे अनजान होता है। तो क्लाइंट कैसे विश्वास करेगा कि आप जिस काम के लिए आवेदन कर रहे हैं उसे आप जानते हैं या नहीं? क्या आप इसका काम अच्छे से कर पाएंगे या नहीं? आप अपना पोर्टफोलियो/वेबसाइट बनाकर इस समस्या को दूर कर सकते हैं।

आइए इसे एक उदाहरण की मदद से समझने की कोशिश करते हैं। मान लीजिए आप कंटेंट राइटिंग जानते हैं और आप कंटेंट राइटिंग में फ्रीलांसिंग करना चाहते हैं। तो आप अपना खुद का एक ब्लॉग बना सकते हैं जहाँ आप उस विषय से संबंधित कुछ लेख (ब्लॉग पोस्ट) प्रकाशित कर सकते हैं जिसमें आप फ्रीलांसिंग करना चाहते हैं। इसके साथ ही जब भी कोई क्लाइंट आपसे आपका काम दिखाने के लिए कहता है तो आप उसे अपने ब्लॉग का लिंक दे देते हैं।

इस उदाहरण से आप समझ गए होंगे कि फ्रीलांसिंग में पोर्टफोलियो की क्या भूमिका है।

इसकी बाद की प्रक्रिया अलग-अलग फ्रीलांस वेबसाइटों पर अलग-अलग हो सकती है। लेकिन मुख्य रूप से ऐसा होता है कि बाहर बहुत काम होता है, आप उस काम की बोली लगाते हैं जो आपको सूट करता है। क्लाइंट को काम देंगे जिसका काम (पोर्टफोलियो) और कीमत पसंद आएगी।

शुरुआत में हो सकता है कि कुछ दिनों तक आपको काम न मिले क्योंकि आप वहां नए हैं और आपको कोई अनुभव नहीं है इसलिए क्लाइंट्स आपको काम देने से कतराएंगे।

एक फ्रीलांस वेबसाइट पर अपने पोर्टफोलियो को मजबूत करने के लिए, आप शुरू में कुछ काम मुफ्त या बहुत कम दरों पर कर सकते हैं और अपने ग्राहकों से आपको अच्छी रेटिंग और समीक्षा देने के लिए कह सकते हैं। इससे जब आप बाद में किसी नौकरी के लिए आवेदन करेंगे तो अच्छी रेटिंग और रिव्यू से आपको नौकरी मिलने में आसानी होगी।

Freelancing में आपको विदेश से भी काम मिलता है और वो आपको अच्छा पैसा भी देते हैं. पेपाल विदेश से भुगतान लेने के लिए बहुत अच्छा होगा। अधिकांश फ्रीलांसर अपना भुगतान पेपाल के माध्यम से ही लेते हैं। इसलिए फ्रीलांसिंग करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आपके पास पेपल अकाउंट है।

बहुत से लोग पूछते हैं कि अब फ्रीलांसर क्या होता है? हाँ भाई Freelancing करने वाले को Freelancer कहते हैं. इसके अलावा फ्रीलांसर नाम का एक फ्रीलांसिंग प्लेटफॉर्म भी है।

फ्रीलांसर कैसे बनें? यह सवाल अब नहीं रहा। ऊपर हमने आपको फ्रीलांसर बनने के तीन बेसिक स्टेप्स बताए हैं, जिन्हें अपनाकर आप एक अच्छे फ्रीलांसर बन सकते हैं।

फ्रीलांसिंग के फायदे

हम ऊपर जान ही चुके हैं कि फ्रीलांसिंग क्या है? फ्रीलांसर कैसे बने इसका मतलब है कि आप एक अच्छा फ्रीलांसर कैसे बन सकते हैं। अब हम जानेंगे कि अगर आप एक फ्रीलांसर बन जाते हैं तो फ्रीलांसिंग के क्या फायदे हैं?

फ्रीलांसिंग के कई फायदे हैं। यहां हम आपको तीन (3) मुख्य फायदे बता रहे हैं।

1. घर से काम कर सकते हैं

यह एक ऑनलाइन जॉब है इसलिए आपको ऑफिस जाने की जरूरत नहीं है। आप कहीं से भी फ्रीलांसिंग कर सकते हैं। चाहे वह आपका घर हो या आपका छात्रावास। बस यह सुनिश्चित करें कि आप जहां से भी काम कर रहे हैं वहां इंटरनेट कनेक्शन अच्छा हो ताकि काम करते समय आपको किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।

2. पढ़ाई कर सकते हैं

अगर आप एक विद्यार्थी हैं और आपको पैसे की समस्या है तो आप फ्रीलांसिंग करके अपनी पैसे की समस्या का समाधान कर सकते हैं। अगर आपके पास पैसे की समस्या नहीं है, तब भी आप फ्रीलांसिंग करके अपने कौशल में सुधार कर सकते हैं।

इसमें ऑफिस की तरह काम करने का कोई निश्चित समय नहीं होता है बल्कि यह आप पर निर्भर करता है कि आप कितना काम करते हैं। उसी के अनुसार आपको धन की प्राप्ति होगी।

पढ़ाई के साथ-साथ फ्रीलांसिंग करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आपकी पढ़ाई पर ज्यादा असर न पड़े। इसके लिए आप एक रूटीन बना सकते हैं और कुछ समय फ्रीलांसिंग को दे सकते हैं जैसे दिन में 2-3 घंटे।

3. बॉस फ्री लाइफ

यह एक स्वरोजगार नौकरी है। इसमें आपका कोई बॉस नहीं है। आप अपने खुद के मालिक हैं। इसमें आप बॉस की डांट और सहकर्मी की साजिशों से बचे रहते हैं।

आप जब चाहें, जहां चाहें काम पूरा कर सकते हैं और जब तक आपके क्लाइंट का काम निर्धारित समय में पूरा हो जाना चाहिए। फ्रीलांसिंग करके आप बॉस मुक्त जीवन जी सकते हैं।

फ्रीलांसिंग क्या होता है – निष्कर्ष

फ्रीलांसिंग छात्रों के लिए अपने कौशल को सुधारने और पैसा कमाने का एक शानदार तरीका है। फ्रीलांसिंग के जरिए आप अपने घर बैठे विदेश के क्लाइंट्स के लिए काम कर सकते हैं।

एक फ्रीलांसर बनना बहुत मुश्किल नहीं है, आप कुछ चरणों का पालन करके आसानी से एक फ्रीलांसर बन सकते हैं, जैसे कि एक ऐसा कौशल सीखना, जिसकी बाजार में मांग हो, एक फ्रीलांस वेबसाइट पर खुद को पंजीकृत करना और अपना पोर्टफोलियो बनाना।

आप पढ़ाई के साथ-साथ फ्रीलांसिंग भी कर सकते हैं। इसके लिए आप अपनी पूरी दिनचर्या में से 2-3 घंटे इसे दे सकते हैं।

Leave a Comment