Misc राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना 2020-21 ऑनलाइन आवेदन पत्र / पंजीकरण

राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना 2020-21 ऑनलाइन आवेदन पत्र / पंजीकरण

केंद्र सरकार ने प्रशिक्षुओं के प्रशिक्षण को प्रोत्साहित करने और नियोक्ताओं को नियुक्त करने की प्रेरणा देने के लिए राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना चला रखी है। यह सरकारी योजना युवाओं को उनके कार्यात्मक क्षेत्र में फ्री ट्रेनिंग देकर उन्हे नौकरी पाने के लिए काबिल बनाएगी जिससे वे खुद से ही आगे चल कर नौकरी पा सके। राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना 2020-21 के अनुसार निर्धारित वजीफे के 25 प्रतिशत की प्रतिपूर्ति जो नियोक्ता के लिए अधिकतम 1500 रुपये प्रतिमाह हर प्रशिक्षु के लिए होगी। मोदी सरकार ने 19 अगस्त, 2016 को राष्ट्रीय प्रशिक्षु संवर्धन योजना की शुरूआत करी थी। योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन करने से संबंधित जानकारी नीचे अलग सेक्शन में दी गई है।

राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना 2020-21 उन सभी छात्रों के लिए है जो आईटीआई, फ्रेशर, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना और हाल ही में पास हुए है। इसके साथ ही जो युवा अपने कौशल में वृद्धि करना चाहते हैं वे ऑनलाइन पंजीकरण करके इस योजना का लाभ ले सकते हैं और आसानी से नौकरी पा सकते हैं।

केंद्रीय सरकार की यह योजना देश की बहुत बड़ी एक तरह की कौशल वितरण योजना है जिससे अब तक हजारों युवा लाभ ले चुके हैं। राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना का लाभ लेने के लिए पात्रता क्या है और आवेदन कैसे करना है आप नीचे आर्टिक्ल में पढ़ सकते हैं।

राष्ट्रीय प्रशिक्षु संवर्धन योजना 2020 ऑनलाइन पंजीकरण

नेशनल अप्रेंटिसशिप प्रमोशन स्कीम 2020 के लिए इच्छुक उम्मीदवारों को निम्न्लिखित आवेदन प्रक्रिया को फॉलो करना होगा:

  • आवेदकों को सबसे पहले नेशनल अप्रेंटिसशिप प्रमोशन स्कीम के आधिकारिक apprenticeship.gov.in पोर्टल पर जाना होगा।
  • होम पेज पर “Apprentices” सेक्शन में जाकर “Candidate Registration” के लिंक पर क्लिक करना है।
  • डाइरैक्ट लिंक : राष्ट्रीय प्रशिक्षुता संवर्धन योजना 2020-21 | NAPS Scheme Online Registration Form for Apprenticeship Training
  • जिसके बाद ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म आपकी स्क्रीन पर खुल जाएगा।
  • NAPS Registration Form Apprenticeship Training

    NAPS Registration Form Apprenticeship Training

  • यहाँ पर आवेदकों को पूछी गई जानकारी ध्यानपूर्वक भरनी है।

एनएपीएस को वर्ष 2020 तक प्रशिक्षुओं की संख्या 2.3 लाख से बढ़ाकर 50 लाख करने के उद्देश्य को लेकर शुरू किया गया था। जिसमें बहुत बड़ी कामयाबी भी मिली है। जिस वर्ष इसे शुरू किया गया था उसी वर्ष अगस्त माह में 1.43 लाख छात्रों ने इसमें अपना रजिस्ट्रेशन कराया था। रक्षा मंत्रालय ने भी एनएपीएस के लिए भी अपना समर्थन दिया है। रक्षा मंत्रालय ने अपने अंतर्गत आने वाली सभी पीएसयू कंपनियों को कुल कर्मचारियों में से 10 फीसदी प्रशिक्षु शामिल करने को कहा है।

माननीय प्रधानमंत्री ने भी 19 दिसंबर को कानपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में एनएपीएस के तहत 15 प्रतिष्ठानों को प्रतिपूर्ति के चेक वितरित किए थे। प्रशिक्षु अधिनियम 1961 को नौकरी ट्रेनिंग के लिए उपलब्ध सुविधाओं का इस्तेमाल करके उनके कौशल में विकास करना है।

इसके अलावा केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षुता प्रशिक्षण योजना (NATS) भी चला रखी है जिसमें फ्री ट्रेनिंग के साथ सरकार प्रतिमाह पैसे भी प्रदान करती है।

राष्ट्रीय प्रशिक्षु संवर्धन योजना पात्रता

सरकार ने राष्ट्रीय प्रशिक्षु संवर्धन योजना के तहत नियोक्ताओं के लिए पात्रता रखी है जो निम्न्लिखित है:

  • नियोक्ता का आधार नंबर से जुड़ा हुआ बैंक में खाता होना चाहिए।
  • नियोक्ता के पास टीआईएन, टीएएन, ईपीएफ़ओ, ईएसआईसी, एलआईएन नंबर होना चाहिए।

नेशनल अप्रेंटिसशिप प्रमोशन स्कीम योग्यता

युवा छात्र-छात्रा जो योजना का लाभ लेना चाहते हैं उन्हे निम्न्लिखित योग्यता को पूरा करना होगा:

  • छात्र की आयु 14 से 21 साल के बीच होनी चाहिए।
  • आवेदक के पास आधार कार्ड होना जरूरी है।
  • बैंक में बचत खाता होना अनिवार्य है।
  • भारत का स्थायी नागरिक होना चाहिए।
  • योग्यता प्रमाण पत्र जहां तक पढ़ाई करी है।

इसके अलावा किसी भी अन्य जानकारी के लिए आवेदक 0120 4405016/17/18/19/20/21 हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं या नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।