Misc मध्य प्रदेश सीएम युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार ऋण योजना – उद्यम लगाने...

मध्य प्रदेश सीएम युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार ऋण योजना – उद्यम लगाने पर कम ब्याज दरों में मिलेगा लोन

मध्य प्रदेश सरकार युवा वैज्ञानिकों और आईटी क्षेत्र में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए युवाओं को स्वरोजगार स्थापित करने के लिए कम ब्याज दरों पर कर्ज देने जा रही है। मुख्यमंत्री कमलनाथ के अनुसार राज्य में लगभग हर क्षेत्र में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए कम ब्याज दर लोन योजना चल रही है पर आईटी के क्षेत्र और युवा वैज्ञानिकों के लिए कोई भी ऐसी योजना नहीं है जो सिर्फ उन्ही के लिए हो। इसी बात को ध्यान में रख कर इस सरकारी योजना को प्रदेश में शुरू किया जा रहा है जिससे आईटी और अनुसंधान के क्षेत्र में युवा रोजगार स्थापित करके आगे बढ़ सके।

युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार ऋण योजना में राज्य सरकार द्वारा दिये जाने वाले लोन की अवधि पांच साल की होगी यानि की उद्यमी को कर्ज पाँच साल के भीतर चुकाना होगा वरना सरकार द्वारा आईटी रोजगार ऋण योजना पर ब्याज में सब्सिडी नहीं दी जाएगी मतलब पाँच साल तक वे कम ब्याज दर पर लोन का लाभ ले सकते हैं उसके बाद ब्याज की दर अन्य लोन की ब्याज दर की तरह ही कर दी जाएंगी।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सीएम युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार ऋण योजना 2019-20 के कार्यान्वन के लिए सूचना प्रौद्योगिकी और सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम विभागों (Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises) को मिलकर इसकी कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दे दिये हैं। योजना की रूप-रेखा तैयार होते ही सरकार इसकी घोषणा करेगी।

सीएम युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार कर्ज योजना आवेदन

विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने युवाओं से यह वादा किया था कि अगर उनकी सरकार सत्ता में आती है तो वे सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भी सेवाओं और योजनाओं का विस्तार करेंगे। जिसके लिए वे मुख्यत हर जिले में सूचना प्रौद्योगिकी केन्द्र विकसित करेंगे। इसी बात को पूरा करने के लिए प्रदेश की सरकार नए साल वाले दिन एक लाख बेरोजगारों जो वैज्ञानिक व अनुसंधान के क्षेत्र में हैं या फिर आईटी के क्षेत्र में हैं उन्हे रियायती दर पर कर्ज देने जा रही है। मुख्यमंत्री युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार कर्जा योजना 2019-20 में युवाओं का चयन जिला स्तर पर होगा।

योजना के तहत युवाओं जो सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र से आते हैं उन्हे जो कर्जा मिलेगा उसके ब्याज की सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं, बाकी की राशि का भुगतान राज्य सरकार खुद करेगी। मुख्यमंत्री के अनुसार उनका हमेशा से यह प्रयास रहा है की रोजगार का कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं छूटना चाहिए जिसका विकास ना हो ऐसे में आने वाली वित्तीय परेशानियों के लिए उनकी सरकार हर संभव प्रयास कर रही है।

सीएम युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार कर्ज योजना का मुख्य उद्देश्य अधिक से अधिक युवा सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र से जुड़े। इस क्षेत्र में नए-नए शोध कार्य करें जिससे आने वाले समय में नए उद्योग स्थापित हों। ऐसे में युवा उद्यमी बनने के साथ-साथ लोगों को रोजगार भी उपलब्ध करा सकेंगे।

सीएम युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार कर्ज योजना पात्रता

मुख्यमंत्री युवा वैज्ञानिक, आईटी रोजगार कर्ज योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक सरकार द्वारा निर्धारित किए गए पात्रता, योग्यता मानदंडों को पूरा करता हो इसके अलावा कुछ अन्य शर्तें भी हैं जिनकी सूची आप नीचे देख सकते हैं:

  • आवेदक राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए मतलब प्रदेश के युवाओं को ही इस योजना का लाभ दिया जाएगा।
  • आवेदक कम से कम 12वीं पास होना चाहिए।
  • उम्मीदवार के पास सूचना व प्रौद्योगिकी क्षेत्र / आईटी में थोड़ा बहुत अनुभव होना चाहिए।
  • युवा जो आईटी रोजगार ऋण योजना के लिए आवेदन करने जा रहे हैं उनकी आयु 40 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • अगर उम्मीदवार ने पहले से ही रोजगार लगाने के लिए ऋण लिया हुआ है और अभी तक चुकाया नहीं है तो वह इस योजना के तहत पात्र नहीं होगा।

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के इस कार्य को सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के साथ मिलकर पूरा किया जाना है। इसलिए इसे एमएसएमई विभाग द्वारा संचालित मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना से जोडऩे की तैयारी है। इसके तहत मैन्युफैचरिंग या सर्विस से जुड़े उद्योग स्थापित करने के लिए राज्य सरकार वित्तीय सहायता देती है। इस योजना में भी युवाओं को ऐसी मदद दी जाएगी। योजना के तहत उद्योग स्थापित करने के लिए मार्जिन मनी, ब्याज अनुदान, कर्ज की गारंटी और ट्रेनिंग सरकार खुद उपलब्ध कराएगी।