Misc निरोगी राजस्थान योजना 2019 – वेबसाइट और टोल फ्री नंबर पर मिलेगी...

निरोगी राजस्थान योजना 2019 – वेबसाइट और टोल फ्री नंबर पर मिलेगी हर बीमारी से संबंधित जानकारी

कांग्रेस सरकार राजस्थान में अपनी पहली वर्षगांठ के दिन 17 दिसंबर 2019 को प्रदेश के हर नागरिक के स्वास्थ्य के लिए ‘निरोगी राजस्थान योजना’ (CM Nirogi Rajasthan Scheme) शुरू करने जा रही है। निरोगी राजस्थान योजना या अभियान 2019 (Nirogi Rajasthan Scheme Website & Call Center) के तहत सरकार वेबसाइट और एक हेल्पलाइन नंबर जारी करेगी जहां पर राज्य का कोई भी नागरिक फोन करके बीमारियों और उनसे कैसे निपटा जाये इसकी जानकारी ले सकते हैं। इस सरकारी योजना के तहत बुजुर्गों के लिए हर मेडिकल कॉलेज में जिरिएट्रिक डिपार्टमेंट खोला जाएगा। इसके माध्यम से प्राथमिकता के आधार पर बुजुर्गों के लिए फ्री स्वास्थ्य सेवा व जांच कार्यक्रम चलाए जाएंगे।

निरोगी राजस्थान अभियान 2019 (Nirogi Rajasthan Scheme portal and toll free helpline number) के अंतर्गत सभी बच्चों, औरतों व बुजुर्गों को किसी भी तरह की स्वास्थ्य समस्या का समाधान एक पोर्टल पर ऑनलाइन (Nirogi Rajasthan Scheme Portal & Toll Free Helpline Number) मिल जाएगा या फिर कॉल सेंटर से संपर्क करके भी जानकारी ली जा सकती है। यही नहीं अभियान में तैयार की जाने वाली अलग वेबसाइट पर विभिन्न रोगों व जीवन शैली से जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में विशेषज्ञों से सवाल पूछ सकेंगेे।

सभी स्कूलों और सार्वजनिक संस्थानों में हैल्थ एजुकेशन प्रोग्राम चलाए जाएंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार शाम अधिकारियों के साथ हुई बैठक में तय किया कि चिकित्सा विभाग, शिक्षा विभाग और डीपीआर के माध्यम से प्रदेश में निरोगी राजस्थान योजना (CM Nirogi Rajasthan Campaign) के लिए विशेष जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।

निरोगी राजस्थान अभियान

दरअसल, एसएमएस अस्पताल के प्राचार्य डाॅ. सुधीर भंडारी नेे सीएम के समक्ष ‘आपणो राजस्थान निरोगी राजस्थान’ का विचार रखा। इससे प्रभावित होकर सीएम ने पूरे राजस्थान में यह अभियान चलाने को कहा है। जिसके लिए सरकार ने इसका पूरा कार्यान्वन करने के निर्देश दे दिये हैं। चिकित्सा विभाग इसकी पूरी रूपरेखा तैयार कर 15 दिन बाद इसको प्रदेश में लागू करेगा। इसके लिए बाकायदा नई स्वास्थ्य नीति तैयार होगी जो अभियान के रूप में लागू की जाएगी।

सीएम ने कहा- स्वास्थ्य नीति को तैयार करने के लिए विशेषज्ञों की मदद ली जाए तथा इसे जल्द से जल्द धरातल पर लागू किया जाए। जागरूकता अभियान (Mukhyamantri Nirogi Rajasthan Scheme & Awareness on Health) की आयोजन और देखरेख के लिए राज्य स्तरीय समिति तथा क्रियान्वयन के लिए जिला स्तर पर समितियां गठित की जाएं। राज्यस्तरीय समिति अभियान के लिए वित्तीय संसाधनों की समुचित व्यवस्था करने के लिए भी सुझाव देगी।

सीएम ने कहा कि राज्य में 15 नए मेडिकल कॉलेज खोलने की स्वीकृति मिल जाने के बाद मात्र तीन जिले ऐसे हैं, जहां राजकीय मेडिकल कॉलेज स्वीकृत नहीं है। तीन जिलों, जालोर, प्रतापगढ़ और राजसमंद में नए मेडिकल कॉलेज के प्रस्ताव केंद्र को भेजे जाएंगे।

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में सोमवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में निरोगी राजस्थान अभियान की रूपरेखा तैयार करने के लिए आयोजित हुई बैठक। pic.twitter.com/qGbTn5SXPB

— CMO Rajasthan (@RajCMO) December 3, 2019

सीएम ने कहा कि आम लोगों का स्वास्थ्य राज्य सरकार के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसके लिए बहुआयामी योजना बनाकर काम करने की आवश्यकता है। खाद्य पदार्थों में मिलावट रोकने के लिए कड़े प्रावधान वाला कानून शीघ्र लागू किया जाएगा। निरोगी राजस्थान को जन अभियान बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश को खुशहाल बनाने के लिए प्रदेशवासियों का बेहतर स्वास्थ्य अतिआवश्यक है। इसके लिए बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सभी लोग अपने और अपने परिजनों के स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि निरोगी राजस्थान अभियान का उद्देश्य है कि निरोग रहने और रोगग्रस्त होने पर निदान के बारे में जानकारी अधिकाधिक लोगों तक पहुंचे। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि निरोगी राजस्थान को जन अभियान बनाया जाए।