Misc राजस्थान जनाधार कार्ड योजना 2019-20 – सभी योजनाओं और सेवाओं के लिए...

राजस्थान जनाधार कार्ड योजना 2019-20 – सभी योजनाओं और सेवाओं के लिए एक कार्ड

राजस्थान सरकार प्रदेश में एक नया जनाधार कार्ड लांच करने जा रही है। जो पिछली सरकार द्वारा जारी किए गए फ्लैगशिप भामाशाह कार्ड की जगह लेगा इसका मतलब नयी सरकार का नया कार्ड। पिछली सरकार ने कई छोटी-बड़ी सरकारी योजनायें लॉन्च करी थी जिनमें वर्तमान की सरकार ने कई बदलाव किए है जो पुराने भामाशाह कार्ड के साथ मेल नहीं खाती हैं इसलिए इस नए जनाधार कार्ड को लॉन्च किया जा रहा है। इस कार्ड को मुख्यमंत्री गहलोत मौजूदा कार्यकाल की पहली वर्षगांठ वाले दिन लॉन्च करेंगे।

इस जनाधार कार्ड योजना से ना केवल कार्ड का रंगरूप बदलेगा, बल्कि सरकार द्वारा शुरू की योजनाओं के स्वरूप में भी कुछ अहम बदलाव किए जाने की तैयारी की जा रही है। पिछली भाजपा की सरकार ने अपने कार्यकाल में भामाशाह कार्ड योजना को अपनी फ्लैगशिप योजना के तौर पर लागू किया था।

भामाशाह योजना की शुरुआत वैसे तो वसुंधरा राजे के 2003-2008 के कार्यकाल के अंतिम दौर में करी थी लेकिन 2008 में सरकार बदली और कांग्रेस सत्ता में आई तो उसने इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया था। 2013 में जब भाजपा वापस सत्ता में लौटी थी तो तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सबसे पहले इस योजना पर काम पूरा करने का फैसला किया था।

मुख्यमंत्री जनाधार कार्ड योजना

जिस तरह लोगों के भामाशाह कार्ड बनाए गए थे और लगभग सभी तरह की सामजिक सुरक्षा की सभी व्यक्तिगत लाभ की योजनाओं को इस कार्ड से जोड़ दिया गया था उसी तर्ज पर इस मुख्यमंत्री जनाधार कार्ड योजना 2019 को तहत कार्ड जारी किए जाएंगे पर यह थोड़ा अग्रिम व उन्नत तकनीक के साथ जुड़ा होगा, जिससे जो भी व्यक्ति किसी योजना का पात्र नही होगा तो उसे उसका लाभ नहीं मिलेगा। क्यूंकी पहले के कार्ड में कुछ खामियाँ थी जिन्हे इस योजना में खत्म कर दिया गया है।

पिछले फ्लैगशिप भामाशाह कार्ड से 1.74 करोड़ परिवारों के कार्ड बने हुए हैं और सरकार की 56 योजनाओं का लाभ इस कार्ड के जरिए दिया जा रहा है। जिनको अब इस नए कार्ड पर शिफ्ट कर दिया जाएगा। इन्हीं सुविधाओं से लेश जन आधार कार्ड को कांग्रेस सरकार दिसम्बर में लांच करेगी जिसकी घोषणा बुधवार को सर्कुलर जारी करके की गई।

नया कार्ड जारी करने में सरकार के ऊपर अतिरिक्त 17-18 करोड़ रुपये का बोझ बढ़ जाएगा।

सीएम जनाधार कार्ड योजना – विशेषताएँ

मुख्यमंत्री जनाधार कार्ड योजना 2019 के अंतर्गत जारी किए जाने वाले कार्ड के अंदर कुछ मुख्य विशेषताएँ निम्न्लिखित हैं:

  • नए जनाधार कार्ड का रूपरंग बदलेगा, इसे अलग रंग में जारी किया जाएगा
  • पहले कार्ड में कम योजनाओं का रेकॉर्ड था जिनको इसके रिकॉर्ड में जोड़ा जाएगा।
  • पिछले भामाशाह कार्ड में चिप लगा हुआ था जबकि नए कार्ड में क्यूआर कोड होगा। जिसको स्कैन करने पर यह सीधे सर्वर से जुड़ेगा और संबंधित व्यक्ति का पूरा ब्योरा कंप्यूटर पर आ जाएगा।
  • अभी जिस परिवार का कार्ड बनता है, उस परिवार के सभी सदस्यों का एक ही नंबर होता है, जो उस कार्ड पर दिया गया होता है, लेकिन अब सरकार कार्ड में शामिल हर परिजन को अलग नंबर देगी जो आधार से जुड़ा होगा। ऐसे में हर व्यक्ति का अलग रिकार्ड रखने में आसानी रहेगी और अलग डाटा तैयार हो सकेगा

इसके अलावा सरकार नए बनने वाले राशन कार्ड की जगह इसी कार्ड को इस्तेमाल करने पर भी विचार कर रही है, क्योंकि अब राशन कार्ड भी डिजिटल ही तैयार होंगे। ऐसे में सरकार द्वारा नए सिरे से राशन कार्ड तैयार करने का खर्च भी बचेगा और यही कार्ड काम आ जाएगा।

सीएम जनाधार कार्ड योजना – लाभ व सेवायें

जनाधार कार्ड योजना के तहत लाभार्थी को कई प्रकार की योजनाओं और सेवाओं का लाभ एक ही कार्ड से मिल जाएगा जिसकी सूची आप नीचे देख सकते हैं:

  1. नए राशन कार्ड के लिए आवेदन
  2. स्वास्थ्य सेवायें जैसे की पीएम जन आरोग्य “आयुष्मान भारत” योजना
  3. छात्रवृत्ति योजना
  4. देवनारायण छात्रा स्कूटी वितरण योजना
  5. मेधावी छात्रा फ्री स्कूटी वितरण योजना
  6. बेरोजगारी भत्ता योजना
  7. मुख्यमंत्री युवा रोजगार योजना

इसके अलावा पहले से पंजीकृत परिवारों को दुबारा पंजीयन करवाने की जरूरत नहीं होगी। उन्हें पंजीकृत मोबाइल पर नई योजना के तहत 10 अंक का जन आधार परिवार पहचान नंबर एसएमएस अथवा वॉइस कॉल से भेज दिया जाएगा। इसके बाद नगर निकाय, पंचायतराज और ईमित्र के माध्यम से कार्ड का निशुल्क वितरण किया जाएगा। ई-कार्ड जन आधार पोर्टल अथवा एसएसओ आईडी के माध्यम से निशुल्क डाउनलोड किया जा सकेगा। पूर्व में दर्ज विवरण में संशोधन और अपडेशन भी करवाया जा सकेगा। वहीं जिनका पंजीयन नहीं है, वे जनाधार पंजीयन केन्द्र पर पंजीयन करवा सकेंगे।