Misc मध्य प्रदेश खुशहाल नौनिहाल योजना 2019 – सीएम कमलनाथ भिक्षावृत्ति, अनाथ, बेसहारा...

मध्य प्रदेश खुशहाल नौनिहाल योजना 2019 – सीएम कमलनाथ भिक्षावृत्ति, अनाथ, बेसहारा बच्चों को लेंगे गोद

मध्‍य प्रदेश सरकार जल्दी ही राज्य में भिक्षावृत्ति करने वाले और अनाथ बच्चों के लिए मुख्‍यमंत्री खुशहाल नौनिहाल योजना 2019 शुरू करने जा रही है। इस सरकारी योजना के तहत मुख्यमंत्री कमलनाथ प्रदेश में उन बच्चों का सहारा बनेंगे। उन्होने एक मीटिंग के दौरान बताया की उनकी इस पहल से अनाथ और बेसहारा बच्चों का भविष्य संवारा जाएगा। मुख्‍यमंत्री खुशहाल नौनिहाल योजना के जरिए सीएम अब अनाथ और बेसहारा बच्चों के ‘पिता’ बनेंगे।

सीएम खुशहाल नौनिहाल योजना 2019 के द्वारा ट्रैफिक सिग्नल व सड़कों पर भीख मांगने वाले बच्चे और बाल मजदूरी करने वाले बच्चों को मुख्यमंत्री कमलनाथ गोद लेंगे और उनका ना सिर्फ भविष्य संवारा जाएगा, बल्कि पढ़ाई-लिखाई से लेकर खाने पीने का इंतजाम भी सरकार द्वारा किया जाएगा। इस अभियान के तहत पहले ही सरकार ने संबंधित अधिकारियों को दिशा-निर्देश दे दिये हैं।

अभी के लिए सीएम खुशहाल नौनिहाल योजना को प्रदेश की राजधानी भोपाल से शुरू किया जाएगा और ट्रेफिक सिग्नल और अनाथ बच्चों को इसके तहत रेस्क्यू किया जाएगा।

मुख्यमंत्री खुशहाल नौनिहाल योजना 2019

अधिकारियों के साथ हुई बैठक में इससे संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये गए की अब से उनके किसी भी जिला क्षेत्र में कोई भी बच्चा भीख मांगता हुआ नजर ना आए। इसकी पूरी ज़िम्मेदारी और जवाबदेही संबंधित अधिकारी की होगी। सरकार के इस कदम से मानव तस्करी और ऐसे गिरोह जो बच्चों को अपंग बना कर उनसे भीख मंगवाते हैं उन पर रोक लगेगी।

सीएम कमनलाथ ने भाजपा सरकार पर तंज़ कसते हुए यह भी कहा की अगर पिछली सरकार पहले ही ऐसे कदम उठा लेती तो अब तक हजारों बच्चों का भविष्य खराब नहीं होता और भी बहुत से कारण हैं जिसकी वजह से उन्हे लोगों ने मुख्यमंत्री बनने का मौका दिया है और भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से हटाया है।

सीएम कमलनाथ ने यह तंज़ उस समय कसा जब खुशहाल नौनिहाल योजना के तहत बच्चों को गोद लेने पर भाजपा के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ये तो भाजपा के समय में ही योजना चलती थी। रेलवे स्टेशन और दूसरी जगह से बच्चों को लेकर छात्रावास में रख कर पढ़ाई-लिखाई कराते थे। ये योजनाएं तो सब बना रहे हैं, लेकिन एक साल में एक पर भी अमल नहीं हो पा रहा है।

मुख्यमंत्री इन दिनों बच्चों के प्रति बेहद संवेदनशील नजर आ रहे हैं। इसके साथ ही स्कूली शिक्षा में भी सुधार करने के लिए सख्ती करने पर भी राज्य सरकार विचार कर रही है। जिससे की शिक्षा व्यवस्था को सुधारा जा सके। मुख्यमंत्री खुशहाल नौनिहाल योजना के तहत जगह-जगह पर जागरूकता अभियान भी चलाये जाएंगे और गैर सरकारी संगठन (NGO) से भी अपील करेगी की वो भी इस अभियान का हिस्सा बने।