Central Government सुरक्षित मातृत्व आसवासन सुमन योजना 2019 – गर्भवती महिला, नवजात शिशुओं के...

सुरक्षित मातृत्व आसवासन सुमन योजना 2019 – गर्भवती महिला, नवजात शिशुओं के लिए मुफ्त स्वास्थ्य जांच व दवाएँ

केंद्र सरकार ने माता और नवजात बच्चे की मृत्यु दर को जेरो जीरो करने के लिए सुरक्षित मातृत्व आसवासन सुमन योजना (Surakshit Matritva Aashwasan – SUMAN scheme) को 10 अक्टूबर 2019 गुरुवार को लॉन्च कर दिया है। सुमन योजना 2019 (Central Govt. SUMAN Scheme) में गर्भवती महिलाओं, माताओं को प्रसव के 6 महीने बाद और बीमार नवजात शिशुओं को मुफ्त स्वास्थ्य सुविधाओं (Free healthcare benefits to Pregnant Women) का लाभ मिल सकेगा। इस सरकारी योजना से मोदी सरकार का मानना है की देश में इससे मातृ और शिशु मृत्यु दर में बहुत कमी आएगी।

सुरक्षित मातृत्व आसवासन सुमन योजना 2019 (Central Govt. SUMAN Scheme) के तहत लाभार्थी महिलाएं सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा केंद्रों (Health Scheme for Pregnant Women) पर जा कर सेवा का लाभ लेने के लिए पात्र होंगी। इसमें नियमित प्रसव जांच के साथ महिला के शरीर में विटामिन, आइरन, कैल्सियम की जांच भी शामिल है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा की प्रधानमंत्री सुरक्षा अभियान के तहत चेकअप, आयरन फोलिक एसिड सप्लीमेंट, टेटनस डिप्थीरिया इंजेक्शन और व्यापक एएनसी पैकेज के अन्य घटक और घर पर जाकर शिशु की जांच शामिल की गई है।

सुरक्षित मातृत्व आसवासन सुमन योजना 2019 – सुविधाएं

पीएम सुमन योजना में केंद्र सरकार द्वारा निम्न्लिखित सुविधाएं और लाभ (Benefits and Facilities provided under PM SUMAN Scheme) दिये जाएंगे जिसकी सूची आप नीचे देख सकते हैं:

  • पीएम सुमन योजना (PM SUMAN Scheme) में गर्भवती महिला को अपनी जांच करवाने के लिए किसी भी प्रकार से पैसे देने की कोई जरूरत नहीं होगी।
  • घर से स्वास्थ्य केंद्र तक जाने के लिए परिवहन की सुविधा भी प्रधानमंत्री सुमन योजना 2019 के अंतर्गत मुफ्त में उपलब्ध कराई जाएगी।
  • किसी भी गंभीर या आपातकाल की स्थिति में एक घंटे के भीतर-भीतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।
  • इसके बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद घर तक पहुंचाने के लिए भी सरकार द्वारा ही फ्री वाहन उपलब्ध कराया जाएगा। इसके अलावा महिला को कम से कम 48 घंटे अस्पताल में गुजारने होंगे। जिससे प्रसव के दौरान स्वास्थ्य की ठीक से जांच की जा सके।
  • प्रधानमंत्री सुमन योजना (Pradhan Mantri SUMAN Scheme) में चेकअप के साथ-साथ आयरन फोलिक एसिड सप्लीमेंट, टेटनस डिप्थीरिया इंजेक्शन और व्यापक एएनसी पैकेज को भी शामिल किया गया है।

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने यह भी कहा कि गर्भवती महिलाओं को इस योजना से अब किसी भी तरह की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा जैसा की उन्हे पहले के समय में करना पड़ता था। केंद्र सरकार ने सुरक्षित मातृत्व आसवासन सुमन योजना 2019 में महिला के साथ-साथ बच्चे की देखभाल पूरी तरह से हो उसको पूरा पोषण मिले यह भी सुनिश्चित किया गया है।

सरकारी आकड़ों के अनुसार, भारत की मातृ मृत्यु दर 2004-06 में 1,000 पर 254 थी जो घटकर 2014-16 में 130 हो गई है। 2001 और 2016 के बीच शिशु मृत्यु दर 66 थी जो अब और भी कम हो गई है अब प्रति 1,000 जन्म पर 34 है और सरकार का मुख्य उद्देश्य इसको शून्य मृत्यु दर पर लेकर आना है।