Central Government सैनिटरी नैपकिन योजना 2019 – जन औषधि केंद्रों पर 1 रुपए में...

सैनिटरी नैपकिन योजना 2019 – जन औषधि केंद्रों पर 1 रुपए में मिलेगा सेनेटरी पैड

केंद्र सरकार ने महिला स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए सुविधा सैनिटरी नैपकिन योजना 2019 (Suvidha Sanitary Napkin Scheme) के तहत कीमतों में 27 अगस्त से कटौती कर दी है जिनको नामित केंद्रों पर बेचा जाएगा। पहले जनऔषधि केंद्रों पर सैनिटरी नैपकिन पैड 2.50 रुपए में बेचा जाता था पर अब एक सेनेटरी नैपकिन के लिए महज 1 रुपए देना होगा। जिन पैड को पहले चार के पैक में 10 रूपये में बेचा जाता था अब उनके लिए सिर्फ 4 रूपये देने होंगे।

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि इन बायोडिग्रेडेबल सेनेटरी पैड को सुविधा सैनिटरी नैपकिन योजना 2019 (Central govt. Suvidha Sanitary Napkin Scheme) के अंतर्गत तैयार किया गया है। केंद्र की महिलाओं के लिए स्वच्छता से जुड़ी इस सरकारी योजना में सभी तैयार किए गए पैड ऑक्सो-बायोडिग्रेडेबल हैं।

इस समय देशभर में लगभग 5,500 जन औषधि केंद्र हैं जिनमें से महिलायें किसी पर भी जाकर सुविधा सैनिटरी नैपकिन परियोजना 2019 (Suvidha Sanitary Pads @ Jan Aushadhi Stores) के तहत सेनेटरी पैड प्राप्त कर सकती हैं।

सुविधा सैनिटरी नैपकिन योजना 2019

मंडाविया ने यह भी कहा था की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार ने 2019 के आम चुनावों के लिए अपने घोषणापत्र में भाजपा ने महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए कदम उठाने का भी वादा किया था जिसको अब पूरा कर दिया गया है। उन्होने यह भी कहा की वर्तमान में निर्माता कंपनी उत्पादन की लागत पर सेनेटरी नैपकिन की आपूर्ति कर रहे हैं जिससे उनकी कीमत ज्यादा हो जाती है। इसलिए वे खुदरा मूल्य को नीचे लाने के लिए सब्सिडी प्रदान करेंगे (Subsidized Suvidha Sanitary Pads at Jan Aushadhi Stores)।

उन्होंने यह भी बताया की मार्च 2018 में सैनिटरी नैपकिन योजना की घोषणा की गई थी और मई 2018 से जन औषधि केंद्रों में इनकी उपलब्धता शुरू हो गई थी। पिछले 1 साल से अब तक 2.2 करोड़ से भी ज्यादा सेनेटरी नैपकिन बेचे गए हैं।

Read in English : Suvidha Sanitary Napkins (Pads) @ Rs. 1 at Jan Aushadhi Kendras for Women

इससे पहले रसायन और उर्वरक मंत्रालय ने राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2015-16 की एक रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा था कि 15 से 24 वर्ष की आयु की लगभग 58 प्रतिशत महिलाएं स्थानीय रूप से तैयार नैपकिन, सैनिटरी नैपकिन और टैम्पोन (Suvidha Sanitary Pads at Rs. 1 at Jan Aushadhi Kendras) का उपयोग करती हैं।

केन्द्रीय सरकार कीमतों में कमी के साथ बिक्री को दो गुना से अधिक करने के साथ-साथ बेहतर गुणवत्ता और पहुंच पर भी काम कर रही है।